Connect with us

Tech News

पिछले 5 सालों में केंद्र सरकार के 600 से ज्यादा सोशल मीडिया अकाउंट्स हुए हैक!

Admin

Published

on

NDTV Gadgets 360 Hindi
पिछले पांच सालों में केंद्रीय सरकार के 600 से ज्यादा सोशल मीडिया अकाउंट हैक हुए हैं, सूचना एवं प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ने लोकसभा में बताया। सरकार के ट्विटर हैंडल और ईमेल अकाउंट्स की हैकिंग से संबंधित एक सवाल का जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि 2017 से अब तक 641 अकाउंट हैक हो चुके हैं। 

इस पर साल दर साल हैकिंग के मामलों की गिनती करवाते हुए उन्होंने एक लिखित उत्तर में बताया कि 2017 में 175 अकाउंट हैक हुए थे, 2018 में 114 अकाउंट हैक किए गए, 2019 में 61 अकाउंट हैक हुए, 2020 में 77, 2021 में 186 और वर्तमान वर्ष में 28 सरकारी अकाउंट हैक हो चुके हैं। 

ठाकुर ने कहा कि यह जानकारी इंडियन कम्प्यूटर इमरजेंसी टीम (CERT-In) ने मिनिस्ट्री ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स एंड इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी (MeitY) को उपलब्ध करवाई है। 

आने वाले समय में इस तरह की घटनाओं को रोकने के लिए सरकार क्या कदम उठा रही है, इस बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि साइबर सिक्योरिटी बढ़ाने के लिए CERT-In को बनाया गया था। डिजिटल टेक्नोलॉजी का सेफ इस्तेमाल किया जा सके, उसके लिए CERT-In लगातार लेटेस्ट साइबर खतरों और उनसे निपटने के उपायों के बारे में  अलर्ट और सलाह जारी करती है।

“इंडियन कम्प्यूटर इमरजेंसी टीम ने डेटा सुरक्षा और फ्रॉड को कम करने के लिए ऑर्गेनाइजेशन और यूजर्स के लिए 68 एडवाजरी जारी की हैं।

मंत्री ने कहा, “वेबसाइट्स/ई-मेल/ट्विटर अकाउंट्स को खतरा होने पर सीईआरटी-इन इसके लिए तुरंत ऐसे एक्शन सुझाती है जिससे कि साइबर हमले से बचा जा सके। सीईआरटी-इन प्रभावित ऑर्गेनाइजेशंस, सर्विस प्रोवाइडर्स, क्षेत्रीय कंप्यूटर सिक्योरिटी रेस्पोन्स टीमों के साथ साथ लॉ एनफोर्समेंट एजेंसियों के साथ भी संपर्क में रहती है। 

उन्होंने कहा कि यूजर्स को अपने डेस्कटॉप, मोबाइल/स्मार्ट फोन को सेफ रखने और फ़िशिंग अटैक को रोकने के लिए सिक्योरिटी सलाह भी प्रकाशित की गई हैं।

“CERT-In ने नेशनल साइबर कॉर्डीनेशन सेंटर (National Cyber Coordination Centre (NCCC)) को बनाया है ताकि वर्तमान में संभावित साइबर सिक्योरिटी खतरों के प्रति स्थिति के अनुसार जरूरी जागरूकता फैलाई जा सके। एनसीसीसी का फेज-1 वर्तमान में चालू हो चुका है।” मंत्री ने कहा।

Source: hindi.gadgets360.com

Tech News

32MP के 2 फ्रंट कैमरा, 12GB रैम, 4500mAh बैटरी के साथ Xiaomi Civi 2 स्‍मार्टफोन लॉन्‍च, जानें प्राइस

Admin

Published

on

By

32MP के 2 फ्रंट कैमरा, 12GB रैम, 4500mAh बैटरी के साथ Xiaomi Civi 2 स्‍मार्टफोन लॉन्‍च, जानें प्राइस
Xiaomi Civi 2 स्‍मार्टफोन मंगलवार को चीन में क्वालकॉम स्नैपड्रैगन 7 जेन 1 प्रोसेसर के साथ लॉन्च किया गया। फोन में 120Hz रिफ्रेश रेट के साथ 6.55 इंच का फुल-एचडी+ एमोलेड डिस्प्ले दिया गया है। ट्रिपल रियर कैमरा सेटअप वाले इस फोन में 50 मेगापिक्सल का सोनी IMX766 मेन कैमरा सेंसर है। फोन का सबसे खास फीचर इसका डुअल-फ्रंट कैमरा सेटअप है। यानी फोन के फ्रंट में दो कैमरा दिए गए हैं। Xiaomi का दावा है कि यह कंपनी की ओर से स्मार्टफोन्‍स में पेश किया गया अब तक का सबसे पावरफुल फ्रंट कैमरा सिस्टम है। इसके तहत फ्रंट में 32 मेगापिक्सल का प्राइमरी कैमरा और एक अन्‍य 32 मेगापिक्सल का अल्ट्रा-वाइड एंगल सेंसर लगाया गया है।
 

Xiaomi Civi 2 के प्राइस और उपलब्‍धता 

Xiaomi Civi 2 स्‍मार्टफोन, शाओमी चीन ऑनलाइन स्टोर पर 8GB रैम + 128GB स्टोरेज वैरिएंट के लिए 2,399 युआन (लगभग 27,000 रुपये) की शुरुआती कीमत पर उपलब्ध है। कंपनी 8GB RAM + 256GB मॉडल भी लाई है, जिसकी कीमत 2,499 युआन (लगभग 28,500 रुपये) है। इसके 12GB RAM + 256GB स्टोरेज वैरिएंट के दाम 2,799 युआन (लगभग 32,000 रुपये) हैं। 

यह स्मार्टफोन ब्लैक, ब्लू और पिंक कलर में आता है। Xiaomi Civi 2 का एक खास ‘हैलो किट्टी एडिशन’ भी है, जो वाइट कलर में आता है और रियर पैनल पर एक प्लीटेड पैटर्न को सपोर्ट करता है। ग्‍लोबल मार्केट्स में इस डिवाइस को कब लॉन्‍च किया जाएगा, इस बारे में कंपनी ने अभी कुछ नहीं बताया है। हालांकि एक रिपोर्ट में दावा किया जा चुका है कि Xiaomi Civi 2 को बाकी मार्केट्स में Xiaomi 12 Lite 5G NE या Xiaomi 13 Lite ब्रैंडिंग के साथ लाया जा सकता है। 
 

Xiaomi Civi 2 के फीचर्स और स्‍पेसिफ‍िकेशंस 

यह स्मार्टफोन Android 12 पर बेस्‍ड MIUI 13 की लेयर पर चलता है। फोन में 6.55 इंच का फुल-एचडी+ (1,080×2,400 पिक्सल) एमोलेड डिस्प्ले है। डिस्‍प्‍ले में 120 हर्ट्ज रिफ्रेश रेट, 240 हर्ट्ज तक टच सैंपलिंग रेट और 1,000 निट्स की पीक ब्राइटनेस मिलती है। डिस्प्ले, HDR10+ और डॉल्बी विजन सपोर्ट के साथ आता है और इसे कॉर्निंग गोरिल्ला ग्लास 5 प्रोटेक्शन दिया गया है। जैसाकि हमने बताया यह स्‍मार्टफोन स्नैपड्रैगन 7 जेन 1 प्रोसेसर से पावर्ड है, जिसे 12GB तक LPDDR4x रैम और 256GB तक UFS 2.2 स्टोरेज के साथ जोड़ा गया है।

Xiaomi Civi 2 में ट्रिपल रियर कैमरा सेटअप है। इसमें 50 मेगापिक्सल का मेन कैमरा है। साथ में 20 मेगापिक्सल का अल्ट्रा-वाइड एंगल कैमरा और 2 मेगापिक्सल का मैक्रो सेंसर दिया गया है। फोन में 32 मेगापिक्सल का फ्रंट कैमरा है, जिसके साथ एक और 32 मेगापिक्सल सेंसर दिया गया है यानी फ्रंट में 2 कैमरे हैं। 171.8 ग्राम वजन वाले Xiaomi Civi 2 में 67W फास्ट चार्जिंग सपोर्ट के साथ 4,500mAh की बैटरी है। यह एक डुअल-सिम स्मार्टफोन है जो 5G कनेक्टिविटी भी ऑफर करता है और कई सारे हाईटेक फीचर्स से लैस है। 
 

Source: hindi.gadgets360.com

Continue Reading

Tech News

8MP कैमरा और 5000mAh बैटरी वाला Tecno Pop 6 Pro लॉन्च, मात्र 6 हजार रुपये में धाकड़ फीचर्स से लैस

Admin

Published

on

By

8MP कैमरा और 5000mAh बैटरी वाला Tecno Pop 6 Pro लॉन्च, मात्र 6 हजार रुपये में धाकड़ फीचर्स से लैस
Tecno ने भारतीय बाजार में Tecno Pop 6 Pro को लॉन्च कर दिया है। इससे बले इस स्मार्टफोन को बांग्लादेश में पेश किया गया था। अन्य Pop सीरीज स्मार्टअफोन की तरह Pop 6 Pro भी एक एंट्री लेवल स्मार्टफोन है जो कि पहली बार स्मार्टफोन खरीदने वालों के लिए बेस्ट ऑप्शन रहता है। Tecno Pop 6 Pro में क्वाड कोर प्रोसेसर और 5000mAh की बैटरी दी गई है। यहां हम आपको Pop 6 Pro की कीमत, उपलब्धता और स्पेसिफिकेशंस के बारे में बता रहे हैं।
 

Tecno Pop 6 Pro की कीमत और उपलब्धता

कीमत की बात की जाए तो Tecno Pop 6 Pro के 2GB + 32GB स्टोरेज वेरिएंट की कीमत 6,099 रुपये है। उपलब्धता की बात करें तो यह Tecno की ऑफिशियल साइट और ई-कॉमर्स साइट Amazon पर बिक्री के लिए उपलब्ध है। कलर ऑप्शन के तौर पर यह स्मार्टफोन Power Black और Peaceful Blue कलर ऑप्शन में उपलब्ध है।
 

Tecno Pop 6 Pro के स्पेसिफिकेशंस

स्पेसिफिकेशंस की बात की जाए तो Tecno Pop 6 Pro में 6.6 इंच की HD+ डिस्प्ले दी गई है, जिसके साथ वॉटरड्रॉप नॉच दिया गया है। डिस्प्ले का रेजोल्यूशन 720 × 1612 पिक्सल है और 270ppi पिक्सल डेंसिटी के साथ 120Hz टच सैंपलिंग सेट को सपोर्ट करता है। प्रोसेसर की बात करें तो Pop 6 Pro में क्वाड कोर MediaTek Helio A22 प्रोसेसर दिया गया है।। स्टोरेज की बात करें तो इसमें 2GB LPDDR4X RAM और 32GB eMMC5.1 स्टोरेज दी गई है। ऑपरेटिंग सिस्टम की बात करें तो यह स्मार्टफोन एंड्रॉयड 12 गो एडिशन पर बेस्ड HiOS 8.6 पर काम करता है।

कैमरा की बात करें तो इस स्मार्टफोन में 8 मेगापिक्सल प्राइमेरी शूट और AI लेसं के साथ ड्यूल रियर कैमरा सेटअप है। वहीं इसके फ्रंट में 5MP का कैमरा दिया गया है जो कि सेल्फी के काम आता है। बैटरी के लिए इसमें 5000mAh की बैटरी दी गई है जो कि एक बार चार्ज होकर 42 घंटे तक स्टेंडबाय रह सकती है। इस स्मार्टफोन में फेस अनलॉक फीचर दिया गया है। डाइमेंशन की बात करें तो इस स्मार्टफोन की लंबाई 164.85mm, चौड़ाई 76.25mm, मोटाई 8.75mm है। कनेक्टिविटी के लिए इस स्मार्टफोन में ड्यूल सिम, 5जी, वाई-फाई, ब्लूटूथ, जीपीएस और ओटीजी सपोर्ट मिलता है।
 

Source: hindi.gadgets360.com

Continue Reading

Tech News

Google की भारत में कानूनी मुश्किलों के बीच कंपनी की पॉलिसी हेड Archana Gulati का इस्तीफा

Admin

Published

on

By

Google Analytics पर यूरोप में लगा डेटा प्रोटेक्शन से खिलवाड़ का आरोप 
इंटरनेट सर्च कंपनी Google की भारत में पॉलिसी हेड Archana Gulati ने इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने कुछ महीने पहले ही यह पोस्ट संभाली थी। अमेरिकी टेक कंपनी गूगल देश में कम से कम दो एंटीट्रस्ट मामलों के फैसले का इंतजार कर रही है। Archana इससे पहले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के सरकारी थिंक टैंक के साथ काम कर चुकी हैं।

Reuters ने दो सूत्रों के हवाले से दी रिपोर्ट में Reuters के इस्तीफे के कारणों की जानकारी नहीं दी है। इस बारे में Archana ने टिप्पणी करने से मना कर दिया। गूगल को चलाने वाली कंपनी Alphabet ने भी इस बारे में कोई टिप्पणी नहीं की है। गूगल को भारत में एंटीट्रस्ट मामलों के साथ ही टेक सेक्टर के लिए कड़े रेगुलेशंस का सामना भी करना पड़ रहा है। कॉम्पिटिशन कमीशन ऑफ इंडिया (CCI) स्मार्ट टीवी मार्केट में गूगल के बिजनेस के तरीके, इसके एंड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम और इन-ऐप पेमेंट सिस्टम की जांच कर रहा है। सूत्रों ने बताया कि इस बारे में जल्द ही CCI का फैसला आ सकता है। 

गूगल में Archana के पास पब्लिक पॉलिसी एग्जिक्यूटिव्स की टीम की अगुवाई करने की जिम्मेदारी थी। यह टीम देश में कंपनी के लिए रेगुलेटरी जरूरतों की निगरानी करती है। कई वर्षों तक केंद्र सरकार की कर्मचारी रही Archana पिछले वर्ष मार्च तक सरकारी थिंक टैंक, नीति आयोग में डिजिटल कम्युनिकेशंसक के लिए ज्वाइंट सेक्रेटरी थी। इससे पहले वह CCI में भी एक वरिष्ठ अधिकारी के तौर पर दो वर्ष तक काम कर चुकी हैं।  बड़ी टेक कंपनियों ने केंद्र सरकार के कई पूर्व अधिकारियों को हायर किया है। इससे उन्हें डेटा और प्राइवेसी रेगुलेशन के साथ ही कॉम्पिटिशन लॉ की शर्तों को पूरा करने में मदद मिलती है। हाल ही में Google को सरकार ने गैर कानूनी लेंडिंग ऐप्स का इस्तेमाल रोकने के लिए कड़े नियम लागू करने के लिए कहा है। मिनिस्ट्री ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स एंड इनफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी ((MeitY) और रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ( RBI) ने गूगल को इन ऐप्स पर लगाम लगाने का निर्देश दिया है। डिजिटल लेंडिंग सेगमेंट में धोखाधड़ी के मामले बढ़ने के बाद RBI ने हाल ही में लेंडर्स से डिजिटल लेंडिंग सर्विसेज के लिए कड़े नियम बनाने को कहा था। 

इसका उद्देश्य बॉरोअर्स को जालसाजी से सुरक्षित करना था। गूगल ने फाइनेंशियल सर्विसेज ऐप्स के लिए अपनी स्टोर डिवेलपर प्रोग्राम पॉलिसी में बदलाव किया है। इसमें पर्सनल लोन ऐप्स के लिए अतिरिक्त शर्तें शामिल हैं। गैर कानूनी डिजिटल लेंडिंग प्लेटफॉर्म्स पर लगाम लगाने के लिए सरकार और RBI ने गूगल से स्क्रूटनी बढ़ाने और यह पक्का करने के लिए कहा है कि केवल रेगुलेटर से स्वीकृति वाले लोन ऐप्स ही गूगल प्ले स्टोर पर डाउनलोड के लिए उपलब्ध हों। इसके साथ ही गूगल से इन ऐप्स के वेबसाइट्स और डाउनलोड के अन्य जरियों से डिस्ट्रीब्यूशन को भी कम करने के लिए कहा गया है। 

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

लेटेस्ट टेक न्यूज़, स्मार्टफोन रिव्यू और लोकप्रिय मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव ऑफर के लिए गैजेट्स 360 एंड्रॉयड ऐप डाउनलोड करें और हमें गूगल समाचार पर फॉलो करें।

संबंधित ख़बरें

Source: hindi.gadgets360.com

Continue Reading

Trending