Connect with us

Tech News

रिसर्चर्स का दावा, भूकंप के लिहाज से पहले से ज्‍यादा एक्टिव है मंगल ग्रह

Admin

Published

on

NDTV Gadgets 360 Hindi
जितना सोचा गया है, मंगल ग्रह (Mars) उससे भी ज्‍यादा पृथ्‍वी के समान है। रिसर्चर्स को पता चला है कि यह ग्रह अपनी धूल भरी बंजर सतह के नीचे ज्वालामुखी गतिविधियों के कारण ‘मार्सक्‍वेक’ का अनुभव कर रहा है। यह वैसा ही है, जैसा पृथ्‍वी पर भूकंप होता है। रिसर्चर्स ने एक विशिष्ट क्षेत्र में मार्टिन क्रस्ट के नीचे 47 मार्सक्वेक की खोज की है, जिसे सेर्बरस फॉसे कहा जाता है। यह 20 मिलियन वर्ष से कम पुराना है। ये 47 मार्सक्वेक एक नई खोज के रूप में सामने आए हैं। अब से पहले वैज्ञानिकों को लगता था कि कमजोर चुंबकीय क्षेत्र वाले मंगल ग्रह के अंदर बहुत कुछ नहीं घटित हो रहा है। नई खोज यह तथ्‍य कमजोर साबित हुआ है।  

आमतौर पर ग्रहों के चुंबकीय क्षेत्र उनके अंदर पैदा होते हैं। उदाहरण के लिए- पृथ्वी का चुंबकीय क्षेत्र उसके बाहरी कोर में उत्पन्न होता है यह अंतरिक्ष में कई किलोमीटर तक फैला होता है। दरअसल यह ब्रह्मांड से आने वाले रेडिएशन के खिलाफ एक ढाल की तरह काम करता है। 

दूसरी ओर मंगल ग्रह पर चुंबकीय क्षेत्र सिर्फ पैच में मौजूद है। यह सौर हवा के मंगल ग्रह के वातावरण के साथ इंटरेक्‍शन से बनता है। पूरे ग्रह पर चुंबकीय क्षेत्र नहीं बनने की वजह से मंगल ग्रह पर बहुत अधिक रेडिएशन होता है। 

ऑस्ट्रेलियन नेशनल यूनिवर्सिटी के रिसर्चर्स को उम्मीद है कि उनकी खोज इस बात पर रोशनी डाल सकती है कि मंगल ग्रह में अब चुंबकीय क्षेत्र क्यों नहीं है। उन्होंने नेचर कम्युनिकेशंस जर्नल में अपने निष्कर्ष प्रकाशित किए हैं।

स्‍टडी के सह लेखक ह्र्वोजे टकालिक ने कहा कि मंगल पर भूकंप हमें यह समझने में मदद कर सकते हैं कि क्या इस ग्रह के अंदरुनी हिस्‍से में संवहन (convention) हो रहा है। संवहन ऊष्मा के एक जगह से दूसरी जगह पर जाने का एक तरीका है। ह्र्वोजे टकालिक कहते हैं कि अगर ऐसा हो रहा है तो ऐसा मैकेनिज्‍म भी होगा, जो इसके चुंबकीय क्षेत्र को रोक रहा है। 

वैज्ञानिकों ने पहले भी यह सोचा था कि मार्सक्वेक, टेक्टोनिक फोर्स के कारण हो सकते हैं, लेकिन इन फाइंडिंग्‍स से पता चलता है कि मंगल ग्रह के मेंटल में अभी भी मैग्मा एक्टिव है। ह्र्वोजे टकालिक ने कहा, फैक्‍ट यह है कि मंगल ग्रह पर सभी भूकंप एक ही क्षेत्र में पाए गए हैं। यह बताता है कि ग्रह के बारे में जितना सोचा गया था, यह भूकंप के नजरिए से उससे भी ज्‍यादा एक्टिव है।

 

Source: hindi.gadgets360.com

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Tech News

Indian Idol 13 रियलटी शो को बायकॉट करने की हो रही है बात, जानें क्या है माजरा?

Admin

Published

on

By

Indian Idol 13 रियलटी शो को बायकॉट करने की हो रही है बात, जानें क्या है माजरा?
Indian Idol 13: इंडियन आइडल सिंगिंग रियलिटी शो का 13वां सीजन चल रहा है, जहां हिमेश रेशमिया, नेहा कक्कड़ और विशाल ददलानी जज की भूमिका निभा रहे हैं। शो को शुरू हुए लगभग तीन हफ्ते बीत चुकी है और टॉप 15 कंटेस्टेंट को चुना जा चुका है। हालांकि, सोशल मीडिया पर टॉप 15 में एक कंटेस्टेंट की जगह पक्की ना होने पर लोग रियलटी शो निर्माताओं और सभी जजों पर भड़के हुए हैं और सोशल मीडिया पर इस शो को बायकॉट करने की बात कर रहे हैं। यह कंटेस्टेंट कोई और नहीं, रीतो रीबा (Rito Riba) है।

Indian Idol 13 से Rito Riba बाहर हो गए हैं। इन्हें शो के ऑडीशन के समय से ही इनकी आवाज और इनके गाने के अंदाज के लिए बेहद पसंद किया जा रहा था। दरअसल, शो की शुरुआत में कुल 30 कंटेस्टेंट चुने गए थे, जिसमें से जजों को टॉप 15 को चुनना था। शुरुआत से ही रीबा को लोगों द्वारा बहुत पसंद किया जा रहा था, लेकिन टॉप 15 में अरुणाचल प्रदेश से आए रीतो रीबा को नहीं लिया गया। 

अब, लोगों का प्रश्न है कि रीतो रीबा की इतनी अच्छी आवाज और उनकी गाने की बहुमुखी प्रतिभा के बावजूद उन्हें शो से क्यों निकाला गया? शो में शुरुआत से ही जजों द्वारा भी उन्हें काफी पसंद किया जा रहा था। 

ट्विटर पर लोगों ने Indian Idol के निर्माताओं और जजों पर जमकर भड़ास निकाली है। कुछ ने शो को फेक (Fake) बता दिया, तो कुछ लोगों ने रीतो रीबा के साथ भेदभाव किए जाने का भी आरोप लगाया। आप इन रिएक्शन ट्वीट्स को नीचे पढ़ सकते हैं।
 

    

बता दें, रीतो रीबा अरुणाचल प्रदेश के रहने वाले हैं। वह पहले से ही सिंगर और कंपोजर हैं। उनका एक YouTube चैनल भी है, जिसके 2 लाख से ज्यादा सब्सक्राइबर हैं।

Source: hindi.gadgets360.com

Continue Reading

Tech News

PS 1 : 200 करोड़ के बजट में बनी ‘पोन्नियिन सेलवन -1’ का टिकट होगा 100 रुपये! दर्शकों के लिए बड़े ऑफर की तैयारी में निर्देशक मणिरत्नम

Admin

Published

on

By

PS 1 : 200 करोड़ के बजट में बनी
राष्‍ट्रीय सिनेमा दिवस पर 75 रुपये की टिकट को लेकर लोगों में जो उत्‍साह देखने को मिला, उसने फ‍िल्‍म निर्माताओं में जोश भर दिया है। ब्रह्मास्‍त्र (brahmastra) और चुप (Chup) जैसी फ‍िल्‍मों को इसका काफी फायदा मिला। टिकटों के दाम कम करके सिनेमाघरों में भीड़ खींचने की तैयारी एक बार फ‍िर से शुरू हो गई है। जाने-माने निर्देशक मणिरत्नम की नई फ‍िल्‍म पोन्नियिन सेलवन -1 (Ponniyin Selvan-1) की टिकट की कीमत पूरे भारत में 100 रुपये रखे जाने की बात सामने आ रही है। यह फ‍िल्‍म हिंदी के अलावा तमिल, तेलुगु और मलयालम में भी रिलीज की जाएगी। बताया जाता है कि इस सप्ताह की शुरुआत में मणिरत्नम ने मल्टीप्लेक्स एसोसिएशनों के साथ मुलाकात की, जिसके लिए वह चेन्नई से मुंबई पहुंचे थे।

बॉलीवुड हंगामा की रिपोर्ट के अनुसार, एक जानकार सोर्स ने बताया है कि मणिरत्नम ने मल्टीप्लेक्स सीरीज को आंशिक रूप से आश्वस्त किया है। पोन्नियिन सेलवन के लिए सिंगल-प्राइस पॉलिसी काम करेगी या नहीं, इस पर बातचीत अभी जारी है, लेकिन संकेत उत्साहजनक हैं। अगर एक 200 करोड़ रुपये के बजट वाली फिल्म को दर्शकों को 100 रुपये प्रति टिकट पर ऑफर किया जाता है, तो सिनेमाघरों का भविष्य इतना अंधकारमय नहीं दिखाई देता। 

रिपोर्ट कहती है कि निर्देशक मणिरत्नम का कहना है कि वह पोन्नियिन सेलवन-1 को ज्‍यादा से ज्‍यादा दर्शकों तक पहुंचाना चाहते हैं। उनका कहना है कि फ‍िल्‍म आज के दर्शकों के लिए बहुत प्रासंगिक होगी। जब उन्‍होंने पहली बार इसकी कहानी को पढ़ा, तो यह उन्‍हें एक बड़े पर्दे की फ‍िल्‍म की तरह लगी थी। 

बड़े बजट की यह फ‍िल्‍म भी अलग-अलग पार्ट में बनकर तैयार होगी। फ‍िल्‍म में ऐश्वर्या राय बच्चन, जयम रवि, कार्थी, तृषा, ऐश्वर्या लक्ष्मी, शोभिता धूलिपाला, प्रभु, आर. सरथकुमार, विक्रम प्रभु, जयराम, प्रकाश राज, रहमान और आर. पार्थिबन मुख्‍य भूमिकाओं में हैं। 

पोन्नियिन सेलवन-1 जिसे शॉर्ट में ‘PS 1’ भी कहा जाता है, एक ऐतिहासिक ड्रामा फिल्म है। फिल्म तमिल उपन्‍यास पर आधारित है, जिसकी कहानी चोल साम्राज्य के आसपास की है। उपन्‍यास को कल्कि कृष्णमूर्ति ने लिखा था। फ‍िल्‍म के टिकट 100 रुपये में मिलना जाहिर तौर पर दर्शकों को खुश करेगा। हालांकि यह रिलीज के साथ ही पता चलेगा कि मणिरत्‍नम और मल्‍टीप्‍लेक्‍स सीरीज के बीच क्‍या बात फाइनल हुई है और क्‍या वाकई फ‍िल्‍म के टिकट 100 रुपये में बेचे जाएंगे। 
 

Source: hindi.gadgets360.com

Continue Reading

Tech News

Adani Group की 100 अरब डॉलर के इनवेस्टमेंट से एनर्जी, डेटा सेंटर्स का किंग बनने की तैयारी

Admin

Published

on

By

Adani Group की 100 अरब डॉलर के इनवेस्टमेंट से एनर्जी, डेटा सेंटर्स का किंग बनने की तैयारी
पिछले कुछ वर्षों में देश के टॉप बिजनेस ग्रुप्स में शामिल हुए गौतम अडानी की अगुवाई वाले Adani Group ने अगले एक दशक में रिन्यूएबल एनर्जी और डिजिटल सेगमेंट में 100 अरब डॉलर से अधिक का इनवेस्टमेंट करने की योजना बनाई है। दुनिया के दूसरे सबसे अमीर व्यक्ति गौतम अडानी ने बताया कि ग्रुप को देश में तेजी से ग्रोथ होने का विश्वास है। डिजिटल सेगमेंट में ग्रुप की योजना डेटा सेंटर्स पर फोकस करने की है। 

अडानी ने कहा कि इस इनवेस्टमेंट का लगभग 70 प्रतिशत रिन्यूएबल एनर्जी में किया जाएगा। पोर्ट्स से लेकर एनर्जी तक के कारोबार से जुड़ा अडानी ग्रुप 45 गीगावॉट के रिन्यूएबल पावर जेनरेशन को जोड़ेगा। इसके साथ ही सोलर पैनल, विंड टर्बाइन और हाइड्रोजन इलेक्ट्रोलाइजर की मैन्युफैक्चरिंग के लिए तीन बड़े प्लांट लगाए जाएंगे। अडानी ने सिंगापुर में Forbes Global CEO कॉन्फ्रेंस में कहा, “एक ग्रुप के तौर पर हम अगले एक दशक में 100 अरब डॉलर से अधिक का इनवेस्टमेंट करेंगे। इसमें से लगभग 70 प्रतिशत रिन्यूएबल एनर्जी सेगमेंट में किया जाएगा।” 

अडानी ने कमोडिटीज के स्मॉल स्केल बिजनेस के साथ शुरुआत की थी। पिछले कुछ वर्षों में उनके ग्रुप का कारोबार कई गुना बढ़ा है। हाल ही में उन्होंने लगभग 143 अरब डॉलर की संपत्ति के  साथ एमेजॉन के प्रमुख जेफ बेजोस, फ्रांस के बड़े कारोबारी Bernard Arnault और माइक्रोसॉफ्ट के पूर्व चेयरमैन बिल गेट्स को पीछे छोड़कर दुनिया में दूसरा सबसे अमीर व्यक्ति बनने की उपलब्धि हासिल की थी। उनकी संपत्ति बढ़ने का बड़ा कारण ऑयल और नेचुरल गैस के प्राइसेज में आई तेजी है। अडानी ग्रुप की कुछ कंपनियों के शेयर प्राइसेज इस वर्ष दोगुने से भी अधिक बढ़े हैं। अडानी ग्रीन एनर्जी और अडानी टोटल गैस के शेयर प्राइस प्रॉफिट से 750 गुना से अधिक पर ट्रेड कर रहे हैं। अडानी एंटरप्राइसेज और अडानी ट्रांसमिशन का वैल्यूएशन 400 गुना से अधिक का है।

अडानी ग्रुप की लिस्टेड कंपनियों का कुल मार्केट कैपिटलाइजेशन लगभग 260 अरब डॉलर का है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के देश की आर्थिक वृद्धि के लंबी अवधि के लक्ष्यों के अनुसार गौतम अडानी अपने ग्रुप को आगे बढ़ा रहे हैं। स्टॉक मार्केट के लिहाज से अडानी की ये कोशिशें सफल होती दिख रही हैं। उनकी कुछ कंपनियों के शेयर प्राइसेज पिछले दो वर्षों में 1,000 प्रतिशत से अधिक बढ़े हैं, जबकि इस अवधि में सेंसेक्स में लगभग 44 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है। 

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

लेटेस्ट टेक न्यूज़, स्मार्टफोन रिव्यू और लोकप्रिय मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव ऑफर के लिए गैजेट्स 360 एंड्रॉयड ऐप डाउनलोड करें और हमें गूगल समाचार पर फॉलो करें।

संबंधित ख़बरें

Source: hindi.gadgets360.com

Continue Reading

Trending